(Kisan Vikas Patra Yojana) हर व्यक्ति चाहता है की उसका पैसा दोगुना हो जाय। जहा बाजार में पैसा दोगुना करने के लिए कई कम्पनिया भरोशा दिलाती है। बाद में इनमे से काफी कम्पनिया डूब बी जाती है। जिसके कारण आपको नुकशान भी हो जाता है। हम आपको 1 ऐसी सरकारी स्कीम के बारे में बतायेगे जो आपका पैसा दोगुना आसानी से कर देगी। और ये एक सरकारी स्कीम है। जिसका कोई मतलब नहीं है की ये डूब भी सकती है। इसके इलावा आपके पैसे की पूरी सुरक्षा भारत सरकार लेती है। आईये जानते है की यह सरकारी स्कीम क्या है और यह कैसे काम करती है।

क्या है किसान विकास पत्र What is Kisan Vikas Patra Yojana?(KVP)

इंडिया पोस्ट द्वारा 1988 में Kisan Vikas Patra Yojana को एक छोटी बचत प्रमाण पत्र योजना के रूप में पेश किया गया था। इस स्कीम में जमा पैसे की सुरक्षा भारत सरकार लेती है इसका प्राथमिक उद्देश्य लोगों को दीर्घकालिक वित्तीय अनुशासन को प्रोत्साहन करना था। उदाहरण के तौर पर बता दें कि यदि आप आज एक Kisan Vikas Patra Yojana (KVP) को खरीदने के लिए 5000 रुपए का निवेश करते हैं। तो 124वे महीने के अंत में दोगुना राशि 10,000 रुपय आपको प्राप्त हो जाएगी। यह योजना किसानों को लंबी अवधि का लाभ पहुंचाने के लिए शुरू की गई थी। जिसे अब सभी के लिए उपलब्ध कर दिया गया है। तथा सरकार द्वारा इसमें निवेश करने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य करने की घोषणा की गई है ताकि इसमेें मनी लॉन्ड्रिंग के दुरुपयोग से बचा जाए।

अटल पेंशन योजना क्या है और इसके लाभ-Atal Pension Yojana in Hindi

किसान विकास पत्र योजना के मुख्य तथ्य

योजना का नामकिसान विकास पत्र योजना 2021(KVP)
किसके द्वारा लांच की गईभारत सरकार द्वारा
योजना के लाभार्थीभारत के प्रत्येक नागरिक
योजना का उद्देश्यनागरिकों के प्रति बचत को बढ़ावा देना
आरंभ तिथि2020
निवेश की अवधि124 माह
न्यूनतम निवेश1000 रुपए
अधिकतम निवेशकोई सीमा नहीं
ब्याज दर6.9%
आवेदन का प्रकारऑनलाइन और ऑफलाइन

किसान विकास पत्र का उद्देश्य

जैसे कि हम सब जानते हैं। कि सभी लोग जिंदगी में बचत करने के लिए विभिन्न योजनाओं का इस्तेमाल करते हैं। और वह चाहते हैं कि इन योजनाओं का लाभ हमें लंबी अवधि के लिए प्राप्त हो। इसी चीज को मद्देनजर रखते हुए 1988 मैं किसान विकास पत्र (KVP) को इंडिया पोस्ट द्वारा लॉन्च किया गया था। इस स्कीम में जमा पैसे की सुरक्षा भारत सरकार लेती है इस पत्र के माध्यम से अगर आप आज 1000 रुपए का निवेश करते हो तो आपको 124 वे महीने में इसकी तो गुनाह राशि यानी के 2000 रुपए प्राप्त होंगे।‌ किसान विकास पत्र योजना एक काफी महत्वपूर्ण बचत योजना है। जिसे किसानों के लिए चलाया गया था तथा इस योजना को अब सभी लोगों के लिए उपलब्ध करवा दिया गया है।

किसान विकास पत्र के प्रकार

सरकार द्वारा किसान विकास पत्र को तीन प्रकारों में बांटा गया है जो कि इस प्रकार हैं।

  • Single Holder Certificate- यह प्रमाण पत्र नागरिक अपने नाम पर खरीद सकता है। या फिर किसी नाबालिक की ओर से खरीद सकता है ताकि जब वह बालिग हो जाए तो उसे ट्रांसफर कर दिया जाए।
  • Joint Type A- यह प्रमाण पत्र तीन लोग साथ मिलकर खरीद सकते हैं और मैच्योरिटी के बाद उनको संयुक्त रूप से भुगतान हो सकता है।
  • Joint Type B- यह प्रमाण पत्र दो व्यस्कों को संयुक्त रूप से जारी किया जाता है जो धारकों में से किसी एक को या जीवित व्यक्ति को देय होता है।

किसान विकास पत्र योजना के तहत निवेश सीमा

इस योजना के अंतर्गत निवेश करने के न्यूनतम राशि 1000 रुपए है। तथा इसकी अधिकतम सीमा को निर्धारित नहीं किया गया है। इसके बाद आप 100 रुपए के गुणांक में कितना भी पैसा जमा कर सकते है। यदि कोई व्यक्ति इस योजना के अंतर्गत 50,000 रुपए से ज्यादा निवेश करता है। तो निवेश के समय उसे अपने पैन कार्ड की डिटेल भी साथ में जमा करनी होंगी तभी मैं इस योजना में आवेदन कर पाएगा। जब आप केवीपी में पैसा जमा करेंगे तो आपो एक सर्टिफिकेट जारी किया जाता है। समय पूरा होने पर इस सर्टिफिकेट को जमा करके अपना दोगुना पैसा वापिस ले सकते है।

किसान विकास पत्र इंटरेस्ट रेट (Interest Rate)

आपको बता दें कि भारत का वित्त मंत्रालय किसान विकास पत्र ब्याज दर तय करता है। जो एक वित्तीय वर्ष में हर तिमाही में अलग हो सकती है। यदि कोई एक व्यक्ति विशिष्ट तिमाही में अपने बजट का निवेश करता है तो प्रचलित ब्याज दर उसके पूरे कार्यालय के लिए लागू होती है। केवीपी में निवेश पर प्रचलित ब्याज दर 7.6% हर 113 महीने के लिए है। लेकिन ब्याज दर तिमाही के तौर पर विभिन्न प्रकार के हैं। तो चलिए दोस्तों जानते हैं निम्नलिखित ब्याज दरों के बारे में 

तिमाहीब्याज दरतत्व
2nd quarter Financial Year 2019-207.6%113 months
1st quarter Financial Year 2019-207.7%112 months
4th quarter Financial Year 2018-197.7%112 months
3rd quarter Financial Year 2018-197.7%112 months
2nd quarter Financial Year 2018-197.3%118 months
1st quarter Financial Year 2018-197.3%118 months

जय किसान फसल ऋण माफी योजना 2021

किसान विकास पत्र योजना (KVP)

वित्त वर्ष 2011 में किसान विकास पत्र (KVP) योजना को बंद कर दिया था और बजट 2014 में इसे फिर से शुरू किया गया है। इंडिया पोस्ट द्वारा 1988 में किसान विकास पत्र को एक छोटी बचत प्रमाण पत्र योजना के रूप में पेश किया गया था इसका प्राथमिक उद्देश्य लोगों को दीर्घकालिक वित्तीय अनुशासन को प्रोत्साहन करना था। उदाहरण के तौर पर बता दें कि यदि आप आज एक किसान विकास पत्र (KVP) को खरीदने के लिए 5000 रुपए का निवेश करते हैं तो 124 वे महीने के अंत में दोगुना राशि 10,000 रुपय आपको प्राप्त हो जाएगी।

यह योजना किसानों को लंबी अवधि का लाभ पहुंचाने के लिए शुरू की गई थी। जिसे अब सभी के लिए यानी भारत के सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध कर दिया गया है, तथा सरकार द्वारा इसमें निवेश करने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य करने की घोषणा की गई है ताकि इसमेें मनी लॉन्ड्रिंग के दुरुपयोग से बचा जाए। आप जितना चाहे इस योजना के तहत निवेश कर सकते हैं बस 500000 से ज्यादा का निवेश करने से पहले आपको अपने पैन कार्ड की डिटेल देनी होगी।

Regress, Return And Interest Of Kisan Vikas Patra Scheme 2021

किसान विकास पत्र योजना में मौजूदा ब्याज दर 6.9% प्रतिशत की दर से निवेश की राशि दुगनी करके वापिस की जाएगी। इसी के साथ साथ निवेशक इस योजना से समय से पहले पैसे निकाल सकता है। लेकिन अगर निवेशक ने प्रमाण पत्र खरीदने के 1 वर्ष के अंदर अंदर वापस लिया है। तो उसको ब्याज नहीं प्रदान किया जाएगा और साथ ही साथ जुर्माना भी देना पड़ेगा। लेकिन अगर आप प्रमाणपत्र खरीदने के 1 साल के बाद पैसे निकालते हैं। तो जुर्माना नहीं देना पड़ेगा बल्कि ब्याज दर कम हो जाएगी। अगर आप ढाई साल के बाद कैसे निकालते हैं। तो आपको 6.9 प्रतिशत की ब्याज दर से ब्याज प्रदान किया जाएगा और जुर्माना भी नहीं भरना पड़ेगा।

किसान विकास पत्र केवीपी डाकघर योजना- संशोधन

  • लोगों को नकद में राशि प्राप्त नहीं होगी, लेकिन अब यह सीधे उनके डाकघर बचत खाते में प्राप्त होगा।
  • इसके बाद केवीपी की खरीद के समय, उम्मीदवारों को किसी भी केवाईसी मानदंडों का पालन नहीं करना होगा।
  • इसके अलावा, किसान विकास पत्र ब्याज राशि 10% टीडीएस की कटौती के अधीन होगी।
  • लाभार्थियों को डाकघरों से केवल KVP प्रमाणपत्र मिलेगा, लेकिन बाद में वे इसे राष्ट्रीयकृत बैंकों की निर्दिष्ट शाखाओं के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं।

इंडिया पोस्ट ऑफिस केवीपी फॉर्म प्रकार

फॉर्म के प्रकारविनिर्देश
फार्म ए (no background colour form )इस प्रकार का फार्म प्रत्यक्ष निवेश के लिए हैं।
फार्म ए 1 (colour background form )इस प्रकार का फॉर्म एक एजेंट के माध्यम से किए गए निवेश के लिए हैं

Transfer of Kisan Vikas Patra scheme 2021

क्या किसान विकास पत्र को ट्रांसफर किया जा सकता है? जी हां बिल्कुल किया जा सकता है। लेकिन किसान विकास पत्र को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को निम्नलिखित स्थिति में ही ट्रांसफर किया जा सकता है।

  • खाता धारक की मृत्यु की स्थिति में
  • संयुक्त धारक की मृत्यु की स्थिति में
  • न्यायालय द्वारा आदेश देने पर
  • निर्देशित अधिकारी को खाते की प्लेज पर

किसान विकास पत्र को वापस लेने के नियम

किसान विकास पत्र को समय से पहले किसी भी समय बंद किया जा सकता है। यह निर्णय कुछ खास परिस्थितियों में ही ही लिया जाएगा। किसान विकास पत्र वापस लेने की स्थिति कुछ इस प्रकार है।

  • किसी एक या फिर सारे खाताधारकों की मृत्यु हो जाने की स्थिति में
  • न्यायालय के आदेश पर
  • जमा करने की तारीख के 2 साल 6 महीने बाद
  • राजपत्र अधिकारी द्वारा

किसान विकास पत्र अकाउंट कौन खोल सकता है

  • एक बालक व्यक्ति
  • संयुक्त खाता धारक (3 व्यक्तियों तक)
  • नाबालिक की ओर से अभिभावक
  • 10 साल से ज्यादा उम्र का नाबालिक

केवीपी में निवेश की पूर्व विड्रॉल

समय से पहले विड्रॉल करने पर अनुमति केवल तभी होती है जब मालिक का निधनं हो जाता है या फिर किसी भी कानून अदालत से निवेश किया जाता है। और ऐसी परिस्थितियों में केवीपी ब्याज दरों में कोई मूल्यहांस नहीं होता है। यदि किसी व्यक्ति के जीवित होने के बाद भी वह पूर्व विड्रॉल करना चाहता है तो उसे कानून अदालत से निर्देश लेना होता है तभी वह इस योजना का पूर्व लाभ ले सकते हैं।

किसान विकास पत्र (KVP) के लाभ

  • डाकघर द्वारा प्रमाण पत्र के मूल्य 1000 रुपए, 5000 रुपए, 10000 रुपए तथा 50 हजार रुपए के होते हैं।
  • इस योजना के तहत निवेश राशि की कोई ऊपरी सीमा नहीं होती है इसीलिए लोग राशि के लिए उच्च केवीपी ब्याज दरों पर रिटर्न कमा सकते हैं।
  • इस योजना में आवेदन की प्रक्रिया भी काफी सरल है अगर आपको निवेश करवाना है तो आपको अपने नजदीकी डाकघर या अधिकृत वित्तीय संस्थान में जाकर आवेदन करवाना होगा।
  • किसान विकास पत्र (KVP) मैं निवेश की तारीख से 2 साल और 6 महीने का न्यूनतम कार्यकाल पूरा होने के बाद योजना के तहत बिना किसी जुर्माने के समय से पहले निकासी की अनुमति होती है।
  • इस निवेश योजना पर सरकारी नियमों के तहत गारंटी भी प्रदान की जाती है।
  • भले ही वित्त मंत्रालय केवीपी प्रमाण पत्रों पर प्रचलित दर में बदलाव किए जाएं लेकिन निवेशक के ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाता।
  • इस योजना में आवेदन करने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह ट्रांसफर बहुत आसानी से किए जा सकते हैं।
  • निवेशक केवीपी प्रमाणपत्रों का उपयोग संपार्श्विक के रूप में कर सकते हैं, जबकि ऋण विशिष्ट वित्तीय संस्थानों का निर्माण करते हैं।
  • केवीपी ब्याज दर में पर्याप्त लाभ मिलता है भारत सरकार आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत इन निवेशकों पर कोई कर लाभ प्राप्त नहीं करती।
  • इन प्रमाण पत्रों में निवेश करने का एक और लाभ यह है कि यदि कार्यालय की परिपक्वता अवधि पूरी होने के बाद धन वापस नहीं लिया जाता है तो डाकघर मौजूदा और पर्स पर अतिरिक्त ब्याज दर देते हैं हालांकि यह भी आज तक एबीपी की ब्याज दरों जितना अधिक नहीं है लेकिन यह डाकघर में बचत खाते की तरहा ही है।

आवेदन के लिए पात्रता (Eligibility)

  • आवेदक को भारत का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • आवेदन के लिए भारती की आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।
  • आवेदक एनआरआई, पीआईओ तथा ओसीआई नहीं होना चाहिए।
  • लाभार्थी किसी हिंदू अविभाजित परिवार का हिस्सा नहीं होना चाहिए।

आवेदन के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज़

  • आधार कार्ड वोटर आईडी कार्ड पासपोर्ट तथा ड्राइविंग लाइसेंस मैं से एक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • केवीपी का एप्लीकेशन फॉर्म
  • जन्म प्रमाण पत्र

Central Government Scheme 2021

Kisan Vikas Patra Yojana में ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया (KVP Registration Process)

देश के जो इच्छुक लाभार्थी किसान विकास पत्र में आवेदन करवाना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है।

  • सर्वप्रथम आपको पोस्ट ऑफिस की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको इन्वेस्टमेंट प्लान के लिंक पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद यहां आपको किसान विकास पत्र योजना के लिंक पर क्लिक करना है।
  • इस तरह से आपके सामने एप्लीकेशन फॉर्म खुलकर आ जाएगा।
  • एप्लीकेशन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करनी है।
  • जानकारी दर्ज करने के बाद आपको महत्वपूर्ण दस्तावेज़ को अटैच करना है।
  • दस्तावेज़ अटैच करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह से किसान विकास पत्र योजना में आपका आवेदन हो जाएगा।

किसान विकास पत्र योजना में ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको अपनी नज़दीकी पोस्ट ऑफिस या बैंक जाना है।
  • यहां से आपको किसान विकास पत्र (KVP) योजना का आवेदन फॉर्म लेना होगा।
  • आवेदन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • जानकारी दर्ज करने के बाद आपको अपने सारे दस्तावेज अटैच करने होंगे।
  • और इस फॉर्म को उसी बैंक यह पोस्ट ऑफिस में जमा कर देना होगा।
  • इस तरह से आप ऑफलाइन इसमें आवेदन कर सकते हैं।

किसान विकास पत्र योजना को ट्रांसफर (Transfer) करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको बैंक या पोस्ट ऑफिस जाना है जहां से आप ने किसान विकास पत्र योजना ली है।
  • उसी बैंक व पोस्ट ऑफिस से आपको ट्रांसफर फॉर्म बी लेना होगा।
  • फॉर्म लेने के बाद इसमें पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • जानकारी दर्ज करने के बाद आपको अपने सभी दस्तावेज अटैच करने होंगे।
  • दस्तावेज अटैच करने के बाद आपको वही फॉर्म बैंक के पोस्ट ऑफिस में जमा कर देने होंगे।
  • इस तरह से आप किसान विकास पत्र योजना को ट्रांसफर कर पाएंगे।
Categories: INVESTMENTS

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *