7 Best Tax Saving Schemes 2021 in Hindi

Published by Ankit Kashyap on

Finance Planning 2021

जब भी हम अपनी इनकम टैक्स रिटर्न्स भरते है। तो हम Tax Saving Schemes के बारे में सोचते है। और ऐसी स्कीम्स खोजते है। जिससे हमारा टैक्स बच सके।

वैसे तो हम टैक्स बचाने के लिए काफी निवेश कर देते है। जैसे Mutual Funds हो या इन्शुरन्स। लेकिन हर व्यक्ति के लिए निवेश का एक ही सुझाव सही साबित नहीं हो सकता. इस वजह से हर व्यक्ति अपनी स्थितियों के अनुसार इनकम टैक्स बचाने के लिए निवेश के विकल्प चुनता है.

अगर आप इस साल 2021 में पहली बार Income Tax Returns भरने वाले है। या फिर जानना चाहते है। की Best Tax Saving Schemes के बारे में तो इस पेज को पूरा पढ़िए। जिससे आप को पता चलेगा की इनकम टैक्स किस प्रकार की स्कीम्स से बच सकता है।

हम आपको ऐसे इन्वेस्टमेंट बतायेगे जिससे आपका टैक्स तो बच सकता है। साथ के साथ उस इन्वेस्टमेंट में आपको काफी अच्छा रिटर्न्स भी मिलेगा।

किसान विकास पत्र Kisan Vikas Patra Yojana 2021(KVP)

इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम (ELSS)

ELSS वास्तव में तीन साल की लॉक इन अवधि वाले इक्विटी म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) होते हैं. इस में इन्वेस्टमेंट में आप 3 साल से पहले अपना पैसा नहीं निकाल सकते है। इस स्कीम के साथ आप 2 तरह से टैक्स बचा सकते है। पहले तो आप 1.5 लाख तक का टैक्स बचा सकते है। Under Section 80c ELSS और यूनिट में तीन साल का लॉक इन होता है. इसलिए यूनिट बेचने पर होने वाले फायदे पर आपको टैक्स (Income Tax) नहीं देना पड़ता। बहुत से लोग ELSS को टैक्स सेविंग म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) के नाम से भी जानते हैं।

पीपीएफ (पब्लिक प्रोविडेंट फंड या PPF)

PPF को हम Save Income Save Tax के नाम से भी जानते है। क्योकि ये आपको आपके रिटायरमेंट में अच्छी मदद करता है। और आप इसमें इन्वेस्ट करके अपने टैक्स भी बचा सकते है। PPF (Exempt Exempt Exempt) के under आता है। जहा हम अपना पैसा जमा करते है। वो जमाराशि Under Section 80c में Exempt होती है। और इस पर कमाया गया Interest पर भी कोई टैक्स नहीं लगता है। अगर इसमें बात करे जोखिम की तो ये बिना जोखिम वाली स्कीम्स है। और यर स्कीम्स भारत के अंतर्गत आती है। अगर कोई भी अपने इन्वेस्टमेंट पर बिलकुल भी जोखिम नहीं लेना चाहता है। तो वो PPF scheme में इन्वेस्ट कर सकता है।

EPF या VPF (कर्मचारी भविष्य निधि / स्वैच्छिक भविष्य निधि)

ये भी एक PPF scheme जैसी है। इसमें भी किसी प्रकार का जोखिम नहीं होता है। क्योकि इस्पे भी बयाज दर सरकार ही लगाती है। जो की फिक्स्ड इंटरस्ट रेट होते है। अगर आप इनकम टैक्स (Income Tax) कानून के सेक्शन 80C का पूरा लाभ उठाना चाहते हैं तो 1.5 लाख रुपये की निवेश सीमा पाने के लिए आपको केवल बची हुई राशि ही टैक्स छूट के विकल्पों में निवेश करनी है.

यहां ध्यान रखने वाली बात यह भी है कि EPF में केवल आपका योगदान ही सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट के योग्य है. आपके नियोक्ता द्वारा आपके EPF अकाउंट में किए गए योगदान पर टैक्स (Income Tax) लाभ नहीं मिलता.

Home Loan (होम लोन के मूलधन पर टैक्स छूट)

अगर आपने होम लोन लिया है, तो उस लोन के मूलधन का भुगतान भी इनकम टैक्स (Income Tax) कानून के सेक्शन 80C के तहत टैक्स लाभ के योग्य है. यहां एक शर्त यह है कि आप निर्माणाधीन प्रॉपर्टी (अंडर कंस्ट्रक्शन प्रॉपर्टी ) के लिए मूलधन के भुगतान पर सेक्शन 80C के तहत टैक्स (Income Tax) लाभ नहीं ले सकते. घर का निर्माण कार्य पूर्ण या रेडी टू मूव प्रॉपर्टी खरीदने के मामले में ही आप इस कटौती का लाभ उठा सकते हैं.

इस प्रावधान में घर खरीदने के लिए चुकाई गई स्टांप ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन चार्ज के लिए भी टैक्स छूट का लाभ लिया जा सकता है. हालांकि, इस तरह के शुल्क के भुगतान पर कर लाभ केवल उसी साल लिया जा सकता है जब आप भुगतान करते हैं. जिस साल आपको घर का कब्जा मिलता है, उस वित्त वर्ष के अगर आप पांच साल के अंदर घर बेच देते हैं, तो आपको मिले टैक्स (Income Tax) बेनिफिट वापस ले लिए जायेंगे.

NPS नेशनल पेंशन स्कीम पर टैक्स छूट

NPS (National पेंशन स्कीम)। जिसके साथ आप अपनी रिटायरमेंट भी प्लान कर ही सकते हो। और साथ के साथ आपको इस पर टैक्स बचाने का विकल्प भी मिलता है। Under Section 80c के साथ आप इसमें निवेश करके टैक्स बचा सकते है। लेकिन जहा इसपर अच्छे टैक्स बचाने का विकल्प मिलता है। वही इसमें थोड़ा जोखिम भी है। क्योकि NPS स्कीम में लिक्विडिटी नहीं होती है। आप इसमें निवेश करके पूरा समय होने से पहले अपना पैसा नहीं निकल सकते है। तो सीधा सीधा आपको 35 साल का लॉक इन पीरियड हो जाता है।

FD (Fixed Deposit) स्कीम पर टैक्स छूट

वैसे फिक्स्ड डिपाजिट केवल इन्वेस्टमेंट के लिए किया जाता है। लेकिन एक Tax Saver FD भी होती है जिसपर आप कम से कम 5 साल तक भी इन्वेस्टमेंट करते है तो आप Under Section 80c से अपना टैक्स बचा सकते है। और फिक्स्ड डिपाजिट में किसी भी प्रकार का जोखिम नहीं है। तो ये एक बेहतर investment ऑप्शन है। लेकिन इसमें भी आपको 5 साल का लॉक इन पीरियड हो जाता है। अगर आप 5 साल से पहले आप अपना पैसा निकल लेगे तो आप टैक्स सेविंग का फायदा नहीं उठा सकते है।

दो बच्चों की ट्यूशन फीस पर टैक्स छूट

आप दो बच्चों के लिए स्कूल/कॉलेज की ट्यूशन फीस पर भी सेक्शन 80C के तहत टैक्स (Income Tax) बेनिफिट ले सकते हैं. यदि आपके दो से अधिक बच्चे हैं, तो आप किसी भी दो बच्चे के लिए यह दावा कर सकते हैं इसके लिए शर्त यह है कि भारत में स्थित विश्वविद्यालय, कॉलेज, स्कूल या अन्य शैक्षणिक संस्थान को फीस का भुगतान किया जाना चाहिए.

अगर आप और भी ऑप्शन जानना चाहते है Tax Saving Schemes के तो आप यहां पढ़ सकते है।

Categories: INVESTMENTS

1 Comment

Personal Finance Planning 2021 याद रखें ये Tips | BUSINESS ME · May 5, 2021 at 5:17 pm

[…] वहां रिटर्न्स भी अच्छे मिले और आपकी टैक्स सेविंग भी हो जाए और एमर्जेन्सी के लिए आपके […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *