HomeBUSINESS IDEA's2022 मछली पालन का व्यापार कैसे शुरू करें Fish Farming in Hindi

2022 मछली पालन का व्यापार कैसे शुरू करें Fish Farming in Hindi

How to start fish farming business in hindi, Fish farming business plan in hindi, fish business hindi, machli palan business, how to start a fish farming business in hindi, machli palan kaise kare, fish farming in hindi, machli palan business kaise kare

Fish Business Plan Hindi- एक छोटे बिज़नेस की शुरुवात और लंबे समय बाद उस बिज़नेस के बड़ी सफलता बिज़नेस की बहुत ही बड़ी कामयाबी और मुनाफे वाली होती है सब सोचते है की कोई ऐसा बिज़नेस मिले जिसमे मुनाफा ज्यादा मिले और रिस्क भी बहुत ही कम हो आज हम आपको मछली पालन बिज़नेस प्लान (Fish Farming Business in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी देंगे। Fish Farming Business in Hindi

मछली पालने का बिज़नेस खेती बाड़ी के जैसा ही बिज़नेस होता है इसमें मेहनत तो ज्यादा लगती है लेकिन मुनाफा भी ज्यादा होता है आज के समय में मछली का सेवन न केवल अपने स्वाद के लिए बल्कि हेल्थ को अच्छी रखने के लिए भी उपयोग किया जाता है मछली से हमे कई तरह के विटामिन मिलते है जिससे हमारा शरीर फिट रहता है इसलिए मछली की बिक्री चाहे कही पर भी हो वही पर इसकी बिक्री हो जाती है।
fish farming business in india

अगर आप भी मछली पालन बिज़नेस में अपना हाथ आजमाना चाहते है तो इस बिज़नेस की पूरी जानकारी इस आर्टिकल में आपको मिलने वाली है। fish farming business in hindi

Fish Farming in Hindi क्या है?

Machli palan business kaise kare- फिश को तो सभी जानते होंगे की एक मछली होती है लेकिन इसका बिज़नेस भी किया जाता है फिश फार्मिंग एक ऐसा व्यावास है जिसमे छोटी मछलियों को संचयन करके रखा जाता है और उन मछलियों का पालकर और उनके आकार को बड़ा करने के बाद उनसे पैदा होने वाली मछलियों को मार्किट में बेचना फिश फार्मिंग बिज़नेस कहलाता है भारत एक बहुत बड़ा देश है और भारत में 60% लोग मछली का सेवन करना पसद करते है मांसाहारी लोग मुर्गा,मछली,अंडा,बकरी का गोस्त आदि खाते हैं लेकिन मछली खाने वाले बहुतायत मात्रा में पाए जाते हैं। fish farming business in india

मछली का स्वाद से भरपूर होना होना उसके साथ इसमें मौजूद कई प्रोटीन एवं विटामिन्स जिसकी वजह से यह मांस खाने वालों की पहली पसंद बनी रहती है इसकी डिमांड इतनी है की इस बिज़नेस को शुरू हर कोई करना चाहता है लेकिन बिना किसी जानकारी के इसकी शुरुवात करना बहुत ही मुश्किल है अगर आप इस बिसनेस की पूरी जानकारी लेने के बाद इस बिज़नेस को शुरू करना चाहते है तो आपको इस बिज़नेस की पूरी सभी जानकारिया इस आर्टिकल में मिलने वाली है। Fish farming business profit

फिश फार्मिंग करने के प्रकार

Types of Fish Farming Hindi- फिश फार्मिंग कस पहला कार्य होता है की हम फिश फार्मिंग करगे कैसे और किस प्रकार से इसे शुरू कर सकते है फिश फार्मिंग का बिज़नेस आप 2 प्रकार से शुरू कर सकते है जैसे:-

1. तालाब का निर्माण (Fish Farming in Hindi)

पहले तो फिश फार्मिंग करने के लिए आपको तालाब की जरूरत होती है और मछलिया पानी में जी जीवित रहती है इसलिए तालाब बनाने के लिए जगह और उसके बाद उस जगह के ऊपर तालाब का निर्माण करने और पानी छोड़कर उसमे मछली पालन का बिज़नेस शुरू किया जा सकता है। fish farming business in india

2. टैंक का निर्माण (Fish Farming in Hindi)

फिश फार्मिंग का दूसरा तरीका है टैंक का निर्माण करना और बिज़नेस की शुरुवात करना इसमें आप बड़े बड़े प्लास्टिक के टैंक खरीद सकते है उनमे आप इस बिज़नेस को शुरू कर सकते है। fish farming business in india

Fish Farming Business in Hindi
Tank Fish Farming Hindi

मछलियों की प्रजाति का चुनाव

फिश फार्मिंग के ये पक्का करने के बाद की हम कैसे इस बिज़नेस की शुरुवात करगे इसके बाद बारी आती है की हम किन प्रजातियो को अपने बिज़नेस में शामिल करगे मार्किट में कई प्रकार की प्रजातियो वाली मछलिया पाई जाती है और सबके दाम अलग अलग होते है।
fish farming business plan in india

भारत में मछलियों की प्रजातियो में रोहू,कटला, मुर्रेल,टूना ग्रास, शार्प एवं हिस्ला, सिल्वर क्रॉप ,कॉमन क्रॉप आदि प्रजाति की मछलियों का खाने में लोग बहुतायत मात्रा में प्रयोग करते हैं अतः इन प्रजातियों का मछली पालन आप के लिए ज्यादा लाभदायक होगा ये मछलियाँ मानसून एवं परिस्थिति के अनुसार अपने आपको ढाल भी लेती हैं। fish farming business plan in india

वातावरण के अनुकूल स्थान का चयन

मछली पालन बिज़नेस में वातावरण का बहुत बड़ा रोल है जैसे हमारे शरीर के लिए अच्छा वातावरण होना जरूरी है उसी प्रकार मछलियों को रहने के लिए अनुकूल वातावरण होना जरुरी है इसके लिए आप किसी एक्सपर्ट की राय ले सकते है या किसी अन्य व्यक्ति जो पहले से इस बिज़नेस को कर रहा है उसकी राय ले सकते है। fish farming business plan in india

मछलियों का चारा (Fish Farming in Hindi)

जैसे हमारे शरीर का ज़िंदा रहने के लिए खाने की जरूरत होती है उसी प्रकार मछलियों को ज़िंदा रहने के लिए चारे की जरूरत होती है ध्यान रहे कि भोजन मछलियों के लिए अनुकूल होना चाहिए और हो सके तो मछली की प्रजाति को ध्यान में रखते हुए उनके खाने का इंतजाम करें।

तालाब में गोबर का छिडकाव करें इससे मछली संचयन करते समय उनके लिए पर्याप्त भोजन उपलब्ध रहता है एक हक्टेअर तालाब में लगभग 900 किलो से 1000 किलो तक का गोबर का छिडकाव कर सकते हैं। मछलियों का मुख्य भोजन तालाब में उत्पन्न होने वाली वनस्पति प्लवक है परन्तु प्रयाप्त पोषण देने के लिए मूंगफली की खली, सरसों की खली, गेंहू का चोकर, चावल व मक्का के महीन टुकड़े आदि तालाब में डाल दिए जाते हैं। fish farming business plan in india

मछलियों का रख रखाव (Fish Farming in Hindi)

मछली पालन व्यापर में सुचारु रूप से चलाने के लिए आपको मजदूरों की भी जरूरत पड़ती है जो कि इन मछलियों का ख्याल रख सकें और समय-समय पर इन्हें खाना दे सकें इसके साथ ही मछलियों को सुरक्षित रखना भी काफी महत्वपूर्ण होता है वहीं अगर किसी मछली को कोई बीमारी हो जाती है, तो ऐसे में आप पोटेशियम परमैंगनेट और साल्ट यानि सोडियम का इस्तेमाल करें क्योंकि एक मछली में फैलने वाले ये कीटाणु या रोग पूरी मछलियों को बीमार कर सकते हैं. इसलिए मछलियों की देखरेख का खास ध्यान रखें। fish farming business plan in india

पानी की गुणवत्ता को बनाएं रखना

पानी की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए आपको तालाब को हर हफ्ते में एक बार साफ करना होगा हालांकि आप इस प्रक्रिया को महीनें में दो बार भी कर सकते हैं इसके साथ-साथ आपको तालाब में भरे पानी की पीएच मान भी 7 से लेकर 8 तक संतुलित करने की आवश्यकता होती है ऐसा करने से मछलियों को साफ पानी मिलता है और मछलियों की उत्पादन क्षमता भी बढ़ जाती है। fish farming business plan in india

मछली उत्पादन हेतु लाइसेंस (Fish Farming License)

फिश फार्मिंग बिज़नेस को शुरू करने के लिए आपको लाइसेंस की जरूरत होती है और ये बिज़नेस खाने-पीने की चीजों से जुड़ा है इसलिए FSSAI से इसको चलाने हेतु लाइसेंस लेना पड़ता है तथा मछलियों की शुद्धता(साफ-सुथरी एवं ताज़ी मछलियाँ) का प्रमाणपत्र भी हासिल करना पड़ता है। fish farming business plan in india

Fish farming business in hindi- भारत में किसी भी तरह के व्यापार को शुरू करने से पहले उसे पंजीकृत करवाना पड़ता है अपने व्यापार को पंजीकृत करने के लिए आपको एक फार्म भरना पड़ता है जिसे सरकार ने उद्योग आधार का नाम दिया है आप सीधे एमएसएमई मंत्रालय के किसी भी सरकारी कार्यालय में जाकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं जिसके लिए आपको अपने व्यवसाय सम्बन्धी सभी दस्तावेज एवं पहचान पत्र, आधार कार्ड, पैन कार्ड एवं मालिक की फोटो आदि ले जानी होती है आपको पंजीकरण के बाद एक पंजीयन संख्या दी जाती है. जिसका इस्तेमाल आप सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी या फिर लोन पाने के लिए कर सकते हैं. लेकिन आप समुद्र या नदी पर इस व्यापार को करना चाहते हैं तो आपको सरकार से नो ऑप्जेक्शन सर्टिफिकट लेना आवश्यक हो जाता है। fish farming business plan in india

फिश फार्मिंग बिज़नेस को शुरू करने की लागत

इस बिज़नेस को शुरू करने से पहले आपको ये सोचना है की आप कितने बड़े पैमाने पर इस बिज़नेस की शुरुवात करना चाहते है आप small scale fish farm भी खोल सकते हैं जितने बड़े तालाब में आप मछली पालन करते हैं तो उसके हिसाब से ज्यादा मछली के बीज डालने पड़ते हैं जिससे लागत बढती है। Fish farming business plan in india में यदि आप एक सामान्य तालाब से शुरुआत करते हैं तो लगभग 50000 तथा बड़े तालाब में लगभग 100000 से 150000 रुपये की लागत से आप मछली पालन शुरू कर सकते है। fish farming business plan in india

तालाब में जल की आपूर्ति हेतु आपको एक वाटर पम्पिंग सेट खरीदना पड़ेगा जिसकी कीमत लगभग 30000 रुपये होगी तथा मछली पकड़ने वाला यन्त्र या जाल खरीदना पड़ेगा। आपको अपने तालाब के आकार के अनुसार मेहनती श्रमिक रखने पड़ेंगे अर्थात बड़े स्तर पर शुरू करने हेतु कुल लागत को जोड़ा जाय तो लगभग दो लाख रुपये तक लगेंगे।

Business के लिए लोन

भारत सरकार ने मेक इन इंडिया को प्रमोट करने के लिए सभी बैंको को नए बिज़नेस को शुरू करने के लिए आसानी से लोन देने के लिए आदेश दिए है अगर आप इस बिज़नेस को शुरू करना चाहते है और आपके पास पैसे नहीं है तो भारत सरकार ने एक स्कीम चलायी हुई है जिसका नाम है प्रदानमंत्री मुद्रा योजना इसके अंतर्गत आपको ये बिज़नेस शुरू करने के लिए बेहद कम ब्याज पर भारत सरकार दुवारा लोन दिया जाता है। 

सरकार से मिलने वाली सहायता

यदि Fish farming business के लिए सरकार से लोन लेते हैं और समय से सभी शर्तों के अधीन ऋण की राशि वापस करते हैं तो आपको एक निश्चित दर से सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है जो अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होती है जैसे यूपी में मछली पालन (raising fish) हेतु 75% राशि(जिसमे से 50% केंद्र सरकार तथा 25% राज्य सरकार) अनुदान देती है।

मछली पालन से होने वाला मुनाफा

Fish farming business profit- अगर आप इस व्यापार में एक लाख रुपय लगाते हैं, तो आपको कम से कम 3 गुना लाभ हो सकता है. इसके अलावा इस व्यापार में होने वाला फायदा आपकी क्षमता, कार्यशैली, एवं मार्केटिंग स्तर पर निर्भर करता है. यानी अगर आप अच्छे से मेहनत करते हैं तो आपको लाभ भी अच्छा ही होगा।

मछलियों की मार्केटिंग

मछली पालन व्यवसाय में मछली बेंचने का मुख्य बाज़ार मछली मंडी होती है। प्रत्येक शहर में मुर्गा, मछली आदि की बिक्री हेतु एक विशेष बाज़ार लगती है जहाँ सिर्फ नॉन-वेज चीजें ही मिलती हैं आप इन बाजारों में अपनी मछलियाँ पहुंचाकर बेंच सकते हैं या फिर अपने तालाब का प्रचार -प्रसार कराके अपने तालाब पर ही ग्राहको को ताज़ी मछलियाँ बेंच कर मुनाफा कमा सकते है।

अगर आपको Fish Farming in Hindi से जुडी जानकारी से कुछ सिखने को मिला तो शेयर जरूर करे धन्यवाद्।और बिज़नेस आइडियाज की जानकारी के लिए आप इस लिंक पर क्लिक कर सकते है- Business Ideas Hindi

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular