HomeBUSINESS IDEA'sNGO शुरू करने के नियम, कार्य, खर्चे- कैसे शुरू करे? How To...

NGO शुरू करने के नियम, कार्य, खर्चे- कैसे शुरू करे? How To Start An Ngo In India Hindi

How To Start An Ngo In India Hindi, ngo name suggestion in hindi, how to start an ngo in india hindi,how to make ngo in india hindi, how to start ngo in india hindi, non government organization in hindi, How To Start An Ngo In India Hindi.

How to Start Non Governmental Organization– हम आपके महान विचार How To Start An Ngo In India Hindi, को सलाम करते है। आज आप जैसे लोगों की वजह से ही इंसानियत जिंदा है। NGO एक गैर सरकारी संस्था है जो किसी लालच के बिना कार्य करती है और जरूरतमंद लोगों की मदद करती है। भारत में कई लोग है जो इंसानियत के नाते जरूरतमंद लोगों की मदद करना चाहते है। और इसलिए वे How to Start An NGO in India Hindi और NGO Registration Process in Hindi, के बारे में जानना चाहते है।

एनजीओ कैसे खोलें- NGO का कार्य सकारात्मक सोच लाने के साथ-साथ बुराइयों how to start an ngo in india hindi को खत्म करना और जरूरतमंदो की सहायता करना भी है। यह संस्था बिना स्वार्थ के कार्य करती है, How To Start An Ngo In India Hindi जो अनाथ, बेबस और भूख से पीड़ितों की सहायता करती है। चलिए अब हम यह जान लेते है कि NGO कैसे बनाये, यानी NGO Registration Process in Hindi?

NGO, गैर सरकारी संगठन क्या है what is ngo in hindi

NGO कैसे शुरू करे, जानने से पहले यह जानना जरूरी है कि NGO क्या है और इसके कार्य क्या है?

NGO यानी Non-Governmental Organization जिसका हिंदी में शाब्दिक अर्थ गैर सरकारी संगठन है। भारत में NGO को संस्था और ट्रस्ट के नाम से भी जाना जाता है। इस प्रकार की संस्था पर सरकार का नियंत्रण नही होता है, लेकिन फिर भी सरकार ऐसे NGO को सहयोग और प्रोत्साहित करती है। How To Start An Ngo In India Hindi

यह एक स्वैच्छिक संगठन होता है, जो जरूरतमंद लोगों की मदद करने के साथ-साथ समाज में सकारात्मक बदलाव लाने की भी कोशिश करता है।

LIC धन रेखा प्लान 863- डिटेल्स और बेनिफिट्स LIC Plan 863 Details in Hindi

NGO के कार्य क्या है what is ngo in hindi

NGO ( Non Governmental Organization) का मुख्य उद्देश्य जरूरतमंदों की मदद करना होता हैं। आज दुनिया भर में NGO विभिन्न प्रकार के समाज कल्याण और मानव कल्याण के उद्देशय के लिए काम करते है। NGO गरीब, बेसहारा और असहाय लोगों के दु:ख-दर्द को समझते हुए उनके साथ खड़ा होता है और सहयोग देता है। इसके अनेक कार्य हो सकते हैं, जैसे-

  1. गरीब और अनाथ बच्चों की शिक्षा,
  2. पीड़ित और असहाय महिलाओं को सहयोग,
  3. वृद्ध लोगों की मदद करना,
  4. समाज की कुरितियों के खिलाफ खड़ा होना,
  5. समाजिक बुराईयों को खत्म करना,
  6. समाज में सकारात्मक सोच लाना,
  7. आपदा में सहायता करना इत्यादि।

नोट: चलिए अब हम यह जान लेते है कि How To Start An Ngo In India Hindi.

NGO खोलने के लिए कितना होगा खर्च

NGO opening process in hindi- किसी भी काम को शुरू करने से पहले यह सवाल जरूर आता है कि कितना खर्च होगा? अगर NGO को शुरू करने के लिए खर्च की बात करे तो NGO रजिस्ट्रेशन फीस मात्र 50 रूपयें है। और NGO को शुरू करने की प्रक्रिया काफी छोटी होती है, जिससे आप 20 से 30 दिनों के अंदर NGO को शुरू कर सकते है।

NGO opening process in hindi – भारत सरकार मात्र 50 रूपयें रजिस्ट्रेशन फीस लेती है। रजिस्ट्रेशन फीस के अलावा भी खर्चे होते हैं, जैसे Affidavit बनाना, नोटरी पर साइन करवाना, आने-जाने का खर्च, प्रोफाइल बनाने का खर्च, संस्था का पैन कार्ड बनाने का खर्च और अन्य छोटे-मोटे रजिस्ट्रेशन खर्च। हालांकि यह खर्च अन्य के मुकाबले बहुत कम होता है। How To Start An Ngo In India Hindi

NGO को खोलने या शुरू करने से पहले आपके पास एक कारण होना चाहिए, जैसे गरीबी खत्म करना, समाज कल्याण, विकलांग या अनाथ बच्चों मदद, पड़ित महिलाओं की मदद, वृद्ध लोगों की मदद, समाज की कुरितियों को खत्म करना इत्यादि। अगर आपके पास NGO शुरू करने का कारण है तो आप निम्न प्रक्रिया के द्वारा NGO को शुरू कर सकते है। How To Start An Ngo In India Hindi

मैक्स बूपा हेल्थ इन्शुरन्स – डिटेल्स और बेनिफिट्स Max Bupa Health Insurance In Hindi

How to Start An NGO In India Hindi

how to start ngo एनजीओ कैसे खोलें- भारत में NGO को शुरू करना इतना ज्यादा सरल भी नही है, क्योंकि कुछ लोग NGO की आड़ में गलत काम से पैसे कमाने की कोशिश करते है। लेकिन फिर भी आप जैसे मानवता और समाज की भलाई की भावना रखने वाले लोग NGO शुरू करने की कोशिश करते है। हम आपको सहयोग देने के लिए NGO कैसे खोले, की पूरी प्रक्रिया आपके साथ सांझा कर रहे है।

NGO को शुरू करने के लिए आपको लगभग 20 से 30 दिन का समय लग सकता है, जो अन्य के मुकाबले कम है। NGO कैसे शुरू करे, इसके लिए निम्नलिखित प्रक्रिया हैं।

#1. NGO शुरू करने का कारण ढुंढे

NGO opening process in hindi – देखा जाए तो NGO मानवता से जुड़ा हुआ काम है, इसलिए आपके पास NGO को शुरू करने का एक कारण होना चाहिए। जैसे अनथा बच्चो का पालन-पोषण करना। अब इस कारण से संबंधित समाज में उत्पन्न व्याधि यानी लोगो की समस्या का विश्लेषण करना ताकि आप NGO को शुरू करके उन समस्याओं को खत्म कर सके।

जिस तरह एक Mechanic गाड़ी या मशीन की खराबी को पहचाने बिना उसे सही नही कर सकता है, ठीक इसी प्रकार आपको भी NGO शुरू करने से पहले समाज का विश्लेषण करना होगा, और मूल समस्या को समझना होगा।

#2. एक टीम का निर्माण

how to start an ngo- किसी भी काम की शुरूआत ngo opening process किसी एक व्यक्ति से की जा सकती है, लेकिन उस काम को करने के लिए टीम की भी बहुत आवश्यकता होती है। अगर आप NGO खोलना चाहते है तो आपके पास कुछ मददगार लोगों की एक टीम होनी चाहिए। How To Start An Ngo In India Hindi

NGO में अनेक तरह के काम होते हैं, जिन्हे कोई एक व्यक्ति अंजाम नही दे सकता है। अत: NGO के पंजीकरण से पहले एक मजबूत और सहमति वाली टीम बनाए। How To Start An Ngo In India Hindi

#3. एनजीओ को शुरू करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

ngo कैसे रजिस्ट्रेशन करे- NGO opening process in hindi – भारत में NGO को शुरू करने के लिए निम्नलिखित डॉक्यूमेंट्स में से किसी एक डॉक्यूमेंट को आगे जमा करवाना अनिवार्य हैं। ये आवश्यक डॉक्यूमेंट निम्नलिखित हैं-

  1. Trust Deed
  2. Memorandum of Association and Rules, and Regulations
  3. Memorandum and Articles of Association, and Regulations

इन तीनों डॉक्यूमेंट में से किसी एक डॉक्यूमेंट का होना अनिवार्य है। उपरोक्त तीनों डॉक्यूमेंट में से कौनसा डॉक्यूमेंट चाहिए, वह इस बात पर निर्भर करेगा की NGO का पंजीकरण कौनसे स्वरूप में किया जाएगा।

इस फॉर्म में आपको एनजीओ से संबंधित विवरण देना होता है, जैसे NGO का लक्ष्य क्या है, यह NGO कैसे काम करेगा, उसमें Trustee, Members की संख्या कितनी होगी, और यह NGO लोगों को सदस्य कैसे बनाएगा व निष्कासन नियम क्या होंगे इत्यादि। How To Start An Ngo In India Hindi

TOP 10 सबसे ज्यादा बिकने वाले कार इन्शुरन्स Best Car Insurance in India Hindi

उपयोगी डॉक्यूमेंट

  • हलफनामा (Affidavit)
  • स्टाम्प
  • उत्तराधिकरी
  • सहमति पत्र इत्यादि

डॉक्यूमेंट को एकत्रित करने के बाद आपको अपने ट्रस्ट का रजिस्ट्रेशन करना है। इसके लिए आपको एक गवाह के रूप में व्यक्ति और कुछ जमीन ट्रस्ट के लिए चाहिए होगी। इसके बाद आप प्रस्ताव को स्वीकार किये जाने पर आपको रजिस्ट्रार के कार्यालय में उपस्थित होना होगा। और वहां पर आपको पंजीकरण के लिए आवेदन पत्र देने होंगे। इसकी प्रक्रिया निम्नलिखित हैं।

#4. एनजीओ का रजिस्ट्रेशन करवाये

संस्था का रजिस्ट्रेशन कैसे करे- भारत में NGO यानी गैर-सरकारी संगठन के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को तीन भागों में देखा जा सकता है। मतलब एनजीओ को तीन अधिनियमों में से किसी एक अधिनयम के तहत रजिस्टर किया जाता है, जैसे Trust Act, Society Act और Companies Act.

A. Trust Act (ट्रस्ट अधिनियम)

भारत देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग Trust Act होते है, और जिस राज्य में खुद का Trust Act नही होगा, वहां पर Trust Act 1882 लागू होता है। Trust Act के तहत रजिस्ट्रेशन हेतु कम से कम दो Trustee होने अनिवार्य है।

NGO के रजिस्ट्रेशन के लिए राज्य के Charity Commissioner या Registrar के ऑफिस में आवेदन पत्र देना होगा। आवेदन करने के लिए आपको ‘Trust Deed’ नामक डॉक्यूमेंट देना होगा। Trust deed एक तरह का गैर न्यायिक स्टाम्प पेपर होता है, जिसमें आपके NGO से संबंधित विवरण होता है। How To Start An Ngo In India Hindi

B. Society Act (सोसाइटी अधिनियम)

इस अधिनियम के द्वारा NGO को Society के रूप में पंजीकृत किया जाता है, हालांकि कुछ राज्य में इसी अधिनयम के तहत Trustee के रूप में भी पंजीकृत किया जाता है, जैसे महाराष्ट्र। Society के रूप में रजिस्ट्रेशन के लिए आपको ‘Memorandum of Association and Rules, and Regulations‘ नामक महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट जमा करना होगा।

इस डॉक्यूमेंट को बनाने के लिए स्टाम्प पेपर की आवश्यकता नही होती है। Society के रूप में NGO पंजीकरण के लिए कम से कम 7 सदस्यों की आवश्यकता होती है।

C. Companies Act (कंपनी अधिनियम)

इस अधिनियम के तहत NGO को कंपनी के रूप में पंजीकृत किया जाता है, जिसके लिए ‘Memorandum and Articles of Association, and Regulations’ डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती है। इसके लिए भी स्टाम्प पेपर की जरूरत नही होती है, लेकिन कम से कम तीन सदस्यों होने आवश्यक है।

1 करोड़ रुपये की टर्म इंश्योरेंस प्लान की सभी जानकारिया 1 Crore Term Insurance Hindi

#5. पैन कार्ड और बैंक अकाउंट

अब आपको अपने NGO के नाम से बैंक अकाउंट और पैन की आवश्यकता होगी ताकि लोग आपके NGO के लिए डोनेशन (फंड) दे सके। बैंक अकाउंट खोलने के लिए आपको NGO Registration और पैन कार्ड इत्यादि की जरूरत होगी।

इस तरह आप अपना NGO शुरू कर सकते है। NGO शुरू होने के 3 या 4 वर्ष बाद Section 80G Certificate के लिए Income Tax Office में आवेदन करना होगा ताकि NGO को मिलने वाला Donation टेक्स फ्री हो सके। How To Start An Ngo In India Hindi

FAQs How To Start An Ngo In India Hindi

Q1. NGO कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर: NGO पंजीकरण के आधार पर तीन प्रकार के हो सकते हैं, जैसे Trust, Society और Companies. इन तीनो एनजीओ का कार्य करने का तरिका और उद्देश्य एक ही होता है, लेकिन इन्हे चलाने के तरिके और नियम एवं कर्मचारियों की संख्या अलग-अलग होती हैं।

Q2. NGO के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करे?

उत्तर: आप भारत सरकार की ऑफिशयल NGO की वेबसाइट “https://ngodarpan.gov.in/” पर ऑनलाइन आवेदन या रजिस्ट्रेशन कर सकते है। रजिस्ट्रेश पर आपको Ngo Darpan ID मिलेगी, जिससे आप अन्य जानकारी ले सकते है।

Q3. Ngo के लिए डोनेशन या फंड कैसे मिलेगा?

उत्तर: अधिकतर एनजीओ फंड की कमी के कारण खुलने के कुछ समय बाद बंद हो जाते है। क्योंकि फंड के लिए लोगों को जागरुक करना होता है और उन्हे विश्वास दिलाना होता है। इसके लिए आपके NGO का उद्देश्य सही होना चाहिए।

डोनेशन के लिए आप सोशल मीडिया, यूट्यूब चैनल और वेबसाइट इत्यादि का सहयोग ले सकते है। इसके अलावा सरकार से भी सहायता मांग सकते है। How To Start An Ngo In India Hindi

Conclusion

ध्यान दे कि पंजीकरण की प्रक्रिया हर राज्य में अलग-अलग हो सकती है, इस हेतु आप किसी जानकार से जानकारी लेने के बाद कदम बढ़ाए। हमने आपके साथ How to Start An Ngo In India Hindi, की मुख्य प्रक्रिया को यहां पर समझाया है।

किसी राज्य में NGO आवेदन के लिए आपको संस्था के नियम से अंकित एक कॉपी, 20 रूपयें के स्टाम्प पर Affidavit, सहमति पत्र, घोषणा और प्राधिकार पत्र इत्यादि की जरूरत होगी। How To Start An Ngo In India Hindi

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular